Sunday, 14 April 2013

‘बाल कविता’


प्रस्तुत कविता मैने अपनी बेटी के लिए लिखी है, जो क्लास २ में पढ़ती है, उसे स्कूल में हिंदी कविता पाठ के लिए कविता चाहिए थी, उसने मुझसे कहा कि कविता पाठ के लिए मैं उसे कोई अच्छी सी कविता ढूंढ कर दूँ . मैने उससे कहा कि क्या मैं लिख दूँ , उसने कहा नहीं मुझे तो ढूंढ कर ही दीजिए. मैने पूछा क्यों मैं लिख दूँ तो क्या हर्ज है? उसने कहा आप तो सीरिअस टाइप की कविता लिखते है, मुझे तो फन्नी कविता चाहिए. मैने उसे समझाया कि मैं फन्नी भी लिख सकता हूँ , जिसपर वह राजी हो गयी. मैने उसके लिए यह कविता लिखी जो उसे बहुत बहुत पसंद आयी, उम्मीद है आपको भी पसंद आएगी .


सुबह सुबह हाथी भाई ,
मेरे घर पर आये ,
सूढ़ उठाकर, पूँछ हिलाकर,
दो-दो दांत दिखाए.

क्या चाहिए हाथी भाई,
खुलकर मुझे बताओ,
क्या हैं आपके हाल चाल,
मुझे भी जरा सुनाओ.

भूखा हूँ आज सुबह से,
हाथी ने फ़रमाया,
ब्रश तो कर लिया है,
कुछ नहीं पर खाया .

जाओ जल्दी से जाकर
खाने को कुछ लाओ,
हाथी भाई आये हैं,
मम्मी को बतलाओ.

मम्मी ने पूछा हाथी से
खाने में क्या लोगे,
यहीं खड़े  खाओगे या
कुर्सी पर बैठोगे.

खाने में मैं लेता हूँ
नब्बे दर्जन केले
चार टब दूध पीता हूँ
खड़े खड़े अकेले .

सुनकर हाथी की बातें
मम्मी का सर चकराया
सुबह सुबह हाथी का बच्चा
मेरे घर क्यों आया .

देखकर मम्मी की हैरानी
हाथी ने हल सुझाया ,
लेकर आओ नोट दस के
बोला और मुस्काया .

लेकर नोट दस का फिर
हाथी ने सूढ़ उठाया
खुश रहने का आशीष दिया
फिर आगे कदम बढ़ाया .
.......... नीरज कुमार ‘नीर’
#neeraj_kumar_neer

16 comments:

  1. बिटिया को पसंद आ गई तो हमें भी पसंद है :)
    शुभकामनायें बिटिया को जो पापा को इस तरह फन्नी कविता लिखने को मजबूर कर दिया !

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति | शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छे से लिखा है आपने. मेरी नज़र में बच्चों के लिए लिखना सबसे मुश्किल काम है. बिटिया को ढेर सारा प्यार. वो ऐसे ही पापा को मजबूर करते रहे और हम लोग आपके अन्दर के बालकवि से रू-ब-रू होते रहें.

    ReplyDelete
  4. वाकई प्यारी कविता ...

    ReplyDelete
  5. वाह !!! बेहद लाजबाब सुंदर बाल गीत ,नीरज जी मुझे तो ये गीत पसंद आया,,,आभार

    Recent Post : अमन के लिए.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुब्दर बाल रचना ... जरूर बच्चों के मन को गुदगुदाएगी ...

    ReplyDelete
  7. are waaaaaaaaaaah waaaaaaaaaaaaah....bhetrin hai.......sirf bal kvita nhi hai.....muje bhi psand aai...shukhriya

    ReplyDelete
  8. bahut pyari aur maasoom si kavita ..iske liye tumne bhi apne andar ke baalak ko mehsoos kiya hoga ..kitna sukh anubhav hua hoga us pal ..badhai aisi sundar rachna ke liye :-)

    ReplyDelete
  9. देवी कूष्मांडा के लिये वधाई ! अच्छी बाल-रचना है !
    बच्चे जीवन के मरुथल में हरी भरी फुलवारी हैं |
    इन के भोलेपण पर हम सब वारी हैं बलिहारी हैं ||

    ReplyDelete
  10. बालमन की सुंदर कविता
    बाल कविता लिखना सहज नहीं है
    बधाई आपको
    सुंदर रचना
    उत्कृष्ट प्रस्तुति

    आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों
    http://jyoti-khare.blogspot.in

    ReplyDelete
  11. सुन्दर बाल कविता नीरज जी ..मजा आ गया
    यहीं खड़े खाओगे ...या कुर्सी पर बैठोगे
    खाने में मै लेता हूँ नब्बे दर्जन केले .....सुन्दर
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  12. बहुत ही अच्छी कविता है ..शुभकामनाये..

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुन्दर बाल कविता :-)

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन बाल कविता, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  15. achchi to hai per lambi jyada ho gayi!

    ReplyDelete
  16. काव्य पाठ बहुत बारीक है। स्पेन के प्रतिअपनी शुभकामनाएं भेजते हैं।
    p.s की ख्रमा तफसील से लिखा, मैं शब् दकोश

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए बहुत मूल्यवान है. आपकी टिप्पणी के लिए आपका बहुत आभार.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...