Saturday, 5 July 2014

कुत्ते का बच्चा


कुत्ते का बच्चा 
गया मर, 
एड़ियाँ रगड़,
किसे फिकर, 
काली चमकती सड़क,
चलती गाड़ियाँ बेधड़क, 
बैठा हाकिम अकड़, 
कलफ़ कड़क, 
सड़क पर किसका हक़?
क्यों रहा भड़क? 
किसके लिए बनी 
काली चमकती सड़क?
कुत्ता कितना कुत्ता है 
चला आता है, 
धुल भरी पगडंडियां 
गाँव की 
छोड़कर.
********
.. नीरज कुमार नीर
(नोट :कृपया कुत्ते शब्द से किसी जानवर का संदर्भ न लें )

Tuesday, 1 July 2014

खारे पानी के जीव


जब सूरज डूब जायेगा,
सब कुछ समा जाएगा,
महासागर की अतल गहराइयों में.
पर्वत का तुंग शिखर भी
नहीं बचेगा तृण मात्र
हड्डियों तक का नहीं रहेगा अस्तित्व.
जीवित रहेंगे फिर भी
खारे पानी के जीव ..
...............
नीरज कुमार नीर 
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...