Friday, 9 January 2015

सुख दुख और उच्छृंखल मन

उच्छृंखल मन 
करता है खेती 
विचारों की 
और उपजाता है 
फसल
सुख और दुःख  के 
.... 
नीरज कुमार नीर 
neeraj kumar neer 

5 comments:

  1. सच है विचारों से ही उपजता है सुख और दुःख ...
    भावपूर्ण ...

    ReplyDelete
  2. Bahut sunder rachna saty hai.. Man ki upaj hai sukh dukh

    ReplyDelete
  3. शाश्वत् सत्य

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए बहुत मूल्यवान है. आपकी टिप्पणी के लिए आपका बहुत आभार.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...