Wednesday, 3 January 2018

आपने "जंगल में पागल हाथी और ढोल' पढ़ा क्या?

"जंगल में पागल हाथी और ढोल' को पढ़कर वरिष्ठ कवि श्री राजेश्वर वशिष्ठ कहते हैं -------- ------- ------ . नीरज नीर बहुत संभावनाशील,चैतन्य कवि हैं जो समाज की नब्ज को भरपूर विवेक और ईमानदारी से अपनी कविताओं में टटोलते हैं। हिंदी कविता के परिदृश्य में यह एक चमकदार नक्षत्र का प्रतीक्षित उदय है। बधाई। ------ ----- --- आपने "जंगल में पागल हाथी और ढोल' पढ़ा क्या ???? अगर नहीं तो अभी मंगाएं यह संकलन मात्र 120/- रु. में उपलब्ध है। डाक ख़र्च फ्री। रज़िस्टर्ड डाक से किताब भेजी जाएगी। मूल्य आप इस नंबर पर पेटीएम कर सकते हैं- 8756219902 या इस खाते में जमा करा सकते हैं- accont details- Rashmi prakashan pvt. ltd. a/c no- 37168333479 state bank of india IFSC Code- SBIN0016730 आपको पुस्तक भेज दी जाएगी। मूल्य जमा कराने के पश्चात जमा कराने का प्रमाण अौर अपना पूरा पोस्टल एड्रेस 08756219902 पर वाट्सअप कर दें --- अमेज़न पर भी आप इसे खरीद सकते हैं :
https://www.amazon.in/dp/8193557565/ref=sr_1_1?s=books&ie=UTF8&qid=1514366710&sr=1-1&keywords=Jungle%20me%20pagal%20haathi%20aur%20dhol

1 comment:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (05-01-2018) को "सुधरें सबके हाल" (चर्चा अंक-2839) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी मेरे लिए बहुत मूल्यवान है. आपकी टिप्पणी के लिए आपका बहुत आभार.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...